Rich Dad Poor Dad Part 1

80 / 100

Rich Dad Poor Dad रिच डैड पुअर डैड

Table of Contents

रिच डैड पुअर डैड सभी माता-पीताओं को समर्पित है,

क्योंकि वही बच्चों के सबसे पहले और महत्वपूर्ण शिक्षक होते हैं /

विश्व प्रसिद्ध लेखक और वक्त  jing jinglar ने कहा है कि आप अमीरी के सपने देखने से पहले एक बार रिच डैडऔर पुअर डैड पढ़नी ही चाहिए इससे आपको बाजार की और पैसे की व्यवहारिक समझ मिलेगी जिससे आपका पार्थिव भविष्य सुधर सकता है”

रिच डैड पुअर डैड पैसे पर लिखी गई कोई साधारण किताब नहीं है यह पढ़ने में आसान है और इसके मुख्य सबक जैसे अमीर बनने में एकाग्रता और हिम्मत की जरूरत होती है बहुत ही आसान है

 रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF

सबक:

अध्याय 1: रिच डैड पुअर डैड

Rich Dad Poor Dadपुस्तक Robert kiyosaki लिखी है उनके अनुसार बच्चों को स्कूल की शिक्षा के साथ-साथ पैसे की भी समझ सीखनी चाहिए/

रॉबर्ट कियोसाकी कहते हैं “कि मेरे दो डैडी थे ,एक अमीर और दूसरे गरीब / एक बहुत पढ़े लिखे थे समझदार थे / और उन्होंने अपने चार साल के अंडरग्रैजुएट कार्य को  2 साल से भी कम समय में कर लिया इसके बाद वे आगे पढ़ने के लिए स्टैंनफोर्ड  यूनिवर्सिटी, चले गए यह सब उन्होंने पूरी तरह से स्कॉलरशिप के सारे ही किया / मेरे दूसरे डैडी आठवीं से आगे नहीं पड़े थे/

दोनों ही अपने करियर में सफल थे / दोनों ने जिंदगी भर कड़ी मेहनत की/  दोनों ने ही काफी पैसा कमाया / परंतु उनमें से एक पूरी जिंदगी पैसे के लिए परेशान होता रहा/ दूसरा हवाई के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक बन गया / एक के मरने पर उसके परिवार चर्च और जरूरतमंदों को करोड़ों डॉलर की दौलत मिली/  दूसरा अपने पीछे कर्ज छोड़ कर मरा/

मेरे दोनों डैडी इरादे के पक्के थे/ दोनों ने मुझे सलाह दी, परंतु उनकी सलाह एक सी नहीं थी/ दोनों ही शिक्षा पर बहुत जोर देते थे, परंतु उनके द्वारा सुझाए गए पढ़ाई के विषय अलग-अलग थे/

अगर मेरे पास केवल एक ही डैडी होती/  तो मैं या तो उनकी सलाह मान लेता या फिर उसे ठुकरा देता/  क्योंकि सलाह देने वाले दो थे, इसलिए मेरे पास दो दो प्रभाव वाशी विचार होते थे( एक अमीर आदमी का और दूसरा गरीब आदमी का)/

किसी भी एक विचार को सीधे-सीधे माल लेने या माने की बजाय मैं उनकी सलाह पर काफी सोच करता था, दोनों ही अपने करियर शुरू कर रहे थे और दोनों ही दौलत तथा परिवार के लिए मेहनत कर रहे थे / परंतु पैसे के बारे में दोनों के विचार और नजरिया एकदम अलग थे/

उदाहरण के तौर पर हम आपको बताना चाहेंगे “एक डैडी कहते थे, पैसे का मोह ही सभी बुराइयों की जड़ है/”  जबकि दूसरे डैडी कहते थे पैसे की कमी ही सभी बुराइयों की जड़ है/”

जब मैं छोटा था ,तो मुझे दोनों  की अलग-अलग सलाहों से दिक्कत होती थी एक अच्छा बच्चा होने के नाते में दोनों की बातें सुनना चाहता था / परेशानी यह थी कि दोनों एक सी बातें नहीं कहते थे उनके विचारों में जमीन आसमान का फर्क था, खास कर पैसे के मामले में / मैं काफी लंबे समय तक यह सोचा करता कि उनमें से किसने क्या कहा क्यों कहा और उसका परिणाम क्या होगा/

मेरा बहुत सा समय सोच विचार में ही गुजर जाता था/ मैं खुद से बार-बार इस बात तरह की सवाल पूछा करता,” उन्होंने ऐसा क्यों कहा ?” और फिर दूसरे डैडी की कही हुई बातों के बारे में भी इसी तरह से सवाल पूछता /  काश मैं यह बोल सकता ,”हां”  बिल्कुल सही है / मैं उनकी बातों से पूरी तरह सहमत हूं / “या एक कहकर मैं सीधे उनकी बात ठुकरा सकता ,”पुराना व्यक्ति को यह नहीं पता कि क्या कह रहा है / “क्योंकि दोनों ही मुझे प्यार थे, इसलिए मुझे खुद के लिए सोचने पर मजबूर होना पड़ा इस तरह सोचा मेरी आदत बन गई/  जो आगे चलकर मेरे लिए बहुत फायदेमंद साबित हुई/  अगर मैं एक तरह से ही सोच पता तो यह मेरे लिए इतना फायदेमंद नहीं होता /

 

रॉबर्ट कियोसाकी ने रिच डैड पुअर डैड पुस्तक को १० अध्यायों में बाँटा है। जिनमें प्रमुख हैं अमीर लोग पैसे के लिए काम नहीं करते हैं। पैसे की समझ क्यों सिखाई जानी चाहिए। अमीर लोग पैसे का आविष्कार करते हैं। सीखने के लिए काम करें – पैसे के काम न करें। शुरुवात करना.

समाधान-

रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF. रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF

“द रोड नॉट टेकन” कविता मेरे लिए खास है क्योंकि यह एक महत्वपूर्ण सन्देश देती है। इसका संदेश है कि हमें अपने जीवन में महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सावधानी बरतनी चाहिए। कई बार हमें अपने लिए सही राह का चयन करना होता है, और इसके परिणामस्वरूप हमारे जीवन का सारा फर्क पड़ता है।

रॉबर्ट कियोसाकी ने रिच डैड पुअर डैड पुस्तक को १० अध्यायों में बाँटा है। जिनमें प्रमुख हैं अमीर लोग पैसे के लिए काम नहीं करते हैं। पैसे की समझ क्यों सिखाई जानी चाहिए। अमीर लोग पैसे का आविष्कार करते हैं। सीखने के लिए काम करें – पैसे के काम न करें। शुरुवात करना. रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF

FaQ-

रिच डैड पुअर डैड – एक नजर में

स्वागत है, पढ़ेरों! आज हम एक ऐसी पुस्तक के बारे में बात करेंगे जिसने आज के युवा पीढ़ियों को अपने पैसे के साथ समझ जाने की मार्गदर्शन किया है – “रिच डैड पुअर डैड.” इस पुस्तक के लेखक रॉबर्ट कियोसाकी ने हमें सिखाया कि शिक्षा के साथ-साथ पैसे की समझ भी बहुत महत्वपूर्ण है।

रिच डैड और पुअर डैड – एक मूल परिचय

रॉबर्ट कियोसाकी कहते हैं कि उनके दो डैडी थे – एक अमीर और दूसरे गरीब। ये दोनों ही बड़े शिक्षित और समझदार थे, लेकिन उनके दौलत कमाने के तरीके बिल्कुल अलग थे।

शिक्षा का महत्व

रिच डैड कहते हैं कि पैसे का मोह ही सभी बुराइयों की जड़ है। वे यह मानते हैं कि स्कूल और कॉलेज की शिक्षा केवल अकेले आपको समृद्धि नहीं दिला सकती, बल्कि आपको वित्तीय ज्ञान भी हासिल करना चाहिए।

मनोबल का महत्व

पुअर डैड के दृष्टिकोण में, पैसों की कमी सभी बुराइयों की जड़ है। वे यह मानते हैं कि मानव जीवन का मूल मकसद धन नहीं होना चाहिए, और हमें अपने दिल की सुननी चाहिए, न कि पैसों की भगवान बनने की कोशिश करनी चाहिए।

डैडों के विचारों के बीच का अंतर

रिच डैड और पुअर डैड के विचार और नजरिया एकदम अलग थे, लेकिन दोनों ही अपने करियर में सफल थे।

 रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now     

Leave a comment